Monthly Archives: May 2010

तेरे ख़त

तेरी ख़ुशबू में बसे ख़त मै जलाता कैसे… प्यार में ड़ूबे हुए ख़त मै जलाता कैसे… तेरे हाथों के लिखे ख़त मै जलाता कैसे… पर तेरे ख़त आज मैने जला दिए… आग लगा दिए… Tweet

No

You should’ve said this a long long time ago… Tweet